IPL tie: Modi Vs Tharoor Minister Says Modi Tried To Buy Out Team Kochi

IPL tie: Modi Vs Tharoor
Minister Says Modi Tried To Buy Out Team Kochi

New Delhi: What began as a juicy side-show to the IPL is now
threatening to dwarf the tournament itself, currently in full swing.
The Lalit Modi-Shashi Tharoor spat turned ugly on Tuesday with the
junior minister and his aide accusing Modi of "breaching all
propriety'' in his efforts to discredit the Kochi franchisee, and take
it away for them for his corporate friends.
Not just this, the minister's aide accused Modi of trying to buy
out the consortium with an "offer" of $ 50 million, while Tharoor
himself decried Modi's "contemptible efforts'' to "drag in matters of
my personal life'' — a reference to his alleged romantic ties with
Sunanda Pushkar, a Dubai-based socialite-businesswoman, who holds 18%
stake in Rendezvous Sports worth Rs 69 crore.
As the plot rapidly thickened, Lalit Modi, currently under a gag
order from BCCI, kept below the radar. However, his associates denied
all the allegations. They said that the $50 million offer was made to
both the new franchisees in case they wanted to back out of their bid.
It couldn't be acertained if this offer was part of the deal, but
prima facie, seemed odd as payment for not making good a bid pledge
has no precedence.
Tharoor denied Modi's allegation that he had called him up during
his meeting in Bangalore with investors of the Kochi team and told to
not seek the identities of the stake holders. Modi associates,
however, said the call came on Saturday, April 10, after midnight —
when the meeting was on — and Modi's telephone records would bear this
out.
Congress unmoved by BJP demand for Tharoor's sack
Congress on Tuesday was cold to BJP's demand for the sacking of
Shashi Tharoor following the disclosure that promoters of Rendezvous
Sports — a motley group which the minister of state helped bag the
Kochi franchise of the IPL — had given his friend free equity in the
venture. P8
THAROOR CAMP SAYS
Modi threatened to make Kochi franchise unworkable
Offered $50m if Kochi consortium would drop deal
Why isn't he seeking details of other IPL teams like Rajasthan Royals?
Tharoor decries Modi for "dragging in personal life"; aide says Modi
was convicted in US for cocaine possession
MODI CAMP RETORTS
$50m offer was made to both Kochi and Pune franchises in case they
wanted to back out
Can nail Tharoor's 'lie' that he didn't call Modi, since Modi's phone
records clearly show he did
If Modi has a stake in Raj Royals, why didn't he overturn Ravindra
Jadeja's ban?
WHAT NEXT?
Shashi Tharoor will feel the heat politically though the public fracas
has ensured that the Kochi IPL team owners will not lose the franchise
It will be hard for Lalit Modi too to emerge unscathed from the controversy
IPL governing council will meet in nine days to take stock of the
situation Lalit Modi threatened Kochi representatives: Tharoor aide
New Delhi: The Lalit Modi-Shashi Tharoor spat took a political turn on
Tuesday with the BJP demanding Tharoor's sack for "improper
behaviour'', while the Congress seemed interested in the developing
drama but disinclined to get involved in it. Matters are likely to
come to a head at a meeting of the IPL governing council where Modi is
expected to battle allegations that he tried to muscle out Rendezvous
to help a couple of failed IPL aspirants. Tharoor may be questioned by
his party on his claims that he had only "helped" the Kochi crowd in
the light of Sunanda Pushkar owning an 18% stake.
In a strong attack on Modi's alleged pressure tactics, a Tharoor
aide said Modi had virtually said during this meeting he would ensure
that franchise was "unworkable." Tharoor's OSD Jacob Joseph was quoted
by a TV channel as saying that Modi threatened the Kochi
representatives — he allegedly said, "I am going to make sure you guys
get the worst name (for the team), worst jerseys, and that you will
not get access to the great players.''
Tharoor himself said the Bangalore meeting was necessitated
because Modi had held up approval to the franchisee "by insisting on
the reversal of a change in the document that he himself had earlier
suggested.'' The minister added: "The consortium members flew to
Bangalore for what they had been told would be a routine exercise.
Instead they were submitted to a barrage of questions which led some
to suspect that Modi was seeking a further excuse to delay approval.
This was the reason for my intervention with Modi.''
On the Bangalore meeting, the Tharoor aide said: "The meeting took
place close to midnight after Modi made us wait through the afternoon
and evening."
Sources said that Sunanda Pushkar, who has been seen in Tharoor's
company at social occasions, has business interests in Dubai where she
is connected with a real estate company. It is understood that Tharoor
and Pushkar were introduced by a Dubai-based businessman Sunny Varkey.
Tharoor said he knew Pushkar well. "On the question of my
interests in the franchise, I repeat that I am proud to have helped
the consortium come to Kerala. I have neither invested nor received a
rupee for my mentorship of the team. Whatever my personal
relationships with any of the consortium members, I do not intend to
benefit in any way financially from my association with the team now
or at a later stage,'' he said.
The minister's aide said Modi's alleged bais was apparent from the
word go, as a day before the actual bidding, he asked the consortium
to quote a price of $297 million for the bid. "He had no business to
suggest this. We did not go by that because we knew that the eventual
price would be much higher. In hindsight, we know that he was trying
to scuttle our chances,'' said the aide. The team eventually won the
rights for Kochi franchisee for $ 333 million.
According to a TV channel, Tharoor's OSD Jacob Joseph said that
Modi was unfit to run cricket as he had been charged and convicted of
drug possession in the US and demanded that the ownership of Rajasthan
Royals — the IPL chief is alleged close to the team — be revealed.
Joseph told the tv channel that "Why isn't he talking about two
other teams which are registered in Mauritius? Why is he insisting
only on the ownership of Kochi franchisee? He has brought disrepute to
IPL and cricket.''
Left asks Congress to explain mantri's conduct
The Left on Tuesday asked Congress to explain the role of minister
of state for external affairs Shashi Tharoor in the affairs of
Rendezvous Sports World Ltd, the consortium owning the Kochi team."It
is for the Congress to take a stand on Tharoor," CPI leader D Raja
said. Terming the Rendezvous affair as murky, he claimed money was
involved in the whole franchise business. "The PMO should also take
note of it," he said. Raja disapproved the of politicians getting into
cricket. "It is the latest trend and we are concerned," he said.

भारतीय धर्म-दर्शन की परंपरा और भक्ति आंदोलन-1

भारतीय धर्म-दर्शन की परंपरा और भक्ति आंदोलन-1

 
भारतीय परंपरा में जीवन के चार पुरुषार्थ माने गए है। धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष। ये जीवन का मूल तत्व या पदार्थ भी हैं, जिन्हें प्राप्त कर लेना मानव जीवन की वास्तविक उपलब्धि कही जा सकती है। इनमें से पहले तीन की प्राप्ति इसी जीवन में संभव है, जबकि चौथे के लिए मृत्यु के पार दस्तक देना जरूरी है। इस बारे में आगे चर्चा करने से पहले यह जान लेना आवश्यक है कि मोक्ष क्या है। भारतीयपरंपरा में इसका सीधा सीधा मतलब है मुक्ति, यानी संसार के आवागमन से दूर हो जाना। सामान्यत इसका अर्थ उस स्थिति से लिया जाता है जब आत्मा परमात्मा में मिलकर उसका अभिन्न-अटूट हिस्सा बन जाती है। दोनों के बीच का सारा द्वैत विलीन हो जाता है। यह जल में कुंभ और कुंभ में जल की सी स्थिति है। जल घड़े में है, घड़ा जल में। घड़ा यानी पंचमहाभूत से बनी देह। पानी की दो सतहों के बीच फंसी मिटटी की पतली सी क्षणभंगुर दीवार, जिसकी उत्पत्ति भी जल यानी परमतत्त्व के बिना संभव नहीं।

 

वेदांत की भाषा में जो माया है। तो उस पंचमहाभूत से बने घट के मिटते ही उसमें मौजूद सारा जल सागर के जल में समा जाता है। सागर में मिलकर उसी का रूपधारण कर लेता है। यही मोक्ष है जिसका दूसरा अर्थ संपूर्णता भी है, आदमी को जब लगने लगे कि जो भी उसका अभीष्ट था, जिसको वहप्राप्त करना चाहता था, वह उसको प्राप्त हो चुका है। उसकी दृष्टि नीर-क्षीर का भेद करने में प्रवीण हो चुकी है। जिसके फलस्वरूप वह इस संसार की निस्सारता को, उसके मायावी आवरण को जान चुका है। साथ ही वह इस संसार के मूल और उसके पीछे निहित परमसत्ता कोभी पहचानने लगा है। उसे इतना आत्मसात कर चुका है कि उससे विलगाव पूर्णत: असंभव है। अब कोई भी लालच, कोई भी प्रलोभन कोई भी शक्ति अथवा डर उसको अपने निश्चय से डिगा नहीं सकता। इस बोध के साथ ही वह मोक्ष की अवस्था में आ जाता है। तब उसकोजन्म-मरण के चक्र से गुजरना नहीं पड़ता। 

मुक्ति का दूसरा अर्थ है आत्मा की परमात्मा के साथ अटूट संगति। दोनों में ऐसी अंतरगता जिसमें द्वैत असंभव हो जाए। परस्पर इस तरह घुल-मिल जाना कि उनमें विलगाव संभव ही न हो। जब ऐसी मुक्ति प्राप्त हो, तब कहा जाता है कि सांसारिक व्याधियों से दूरमन पूरी तरह निस्पृह निर्लिप्त हो चुका है। जैन दर्शन में इस अवस्था को कैवल्य' कहा गया है। कैवल्य यानी अपनेपन की समस्तअनुभूतियों का त्यागकर 'केवल वही' का बोध रह जाना। यह बोध हो जाना कि मैं भी वहीं हूं और एक दिन उसी का हिस्सा बन जाऊंगा।उस समय न कोई इच्छा होगी न आकांक्षा। न कोई सांसारिक प्रलोभन मुझे विचलित कर पाएगा। इसी स्थिति को बौद्ध दर्शन में 'निर्वाण' कीसंज्ञा दी गई है, जिसका शाब्दिक अर्थ है-'बुझा हुआ'। व्यक्ति जब इस संसार को जान लेता है, जब वह संसार में रहकर भी संसार से परे रहने की, कीचड़ में कमल जैसी निर्लिप्तता प्राप्त कर लेता है, तब मान लिया जाता है कि वह इस संसार को जीत चुका है।

इच्छा-आकांक्षाओं और भौतिक प्रलोभनों से सम्यक मुक्ति ही निर्वाण है। गीता में इस स्थिति को कर्म, अकर्म और विकर्म के त्रिकोण के द्वारा समझाने का प्रयास किया गया है। उसके अनुसार संसार में सभी व्यक्तियों के लिए कुछ न कुछ कर्म निर्दिष्ट हैं। जब तक यह मानव देहहै, कर्तव्य से सरासर मुक्ति असंभव है। क्योंकि देह सांस लेने का, आंखें देखने का कान, सुनने का काम करती रहती है। संन्यासी को भीइन कर्तव्यों से मुक्ति नहीं। जब तक प्राण देह में हैं, तब तक उसको देह का धर्म निभाना ही पड़ता है। तब मुक्ति का क्या अभिप्राय: है! बुद्ध कहते हैं कि देह में रहकर भी देह से परे होना संभव है। हालांकि उसके लिए लंबी साधना और नैतिक आचरण की जरूरत पड़ती है। मोक्ष और निर्वाण दोनों ही अवस्थाओं में जीव जन्म-मरण के चक्र से छुटकारा पा लेता है। लेकिन मोक्ष मृत्यु के पार की अवस्थाहै। जबकि निर्वाण के लिए जीवन का अंत अनिवार्य नहीं।

गौतम बुद्ध ने सदेह अवस्था में निर्वाण प्राप्त किया था। जैन दर्शन के प्रवर्त्तकमहावीर स्वामी भी जीते जी कैवल्य-अवस्था को पा चुके थे। किंतु सभी तो उनके जैसे तपस्वी-साधक नहीं हो सकते। तब साधारण जन क्या करें। तो उसके लिए सभी धर्म-दर्शनों में एक ही मंत्र दिया गया है। और वह है अनासक्ति। संसार में रहकर भी संसार के बंधनों से मुक्ति, धन-संपत्ति की लालसा, संबंधों और मोहमाया के बंधनों से परे हो जाना, अपने-पराये के अंतर से छुटटी पा लेना, जो भी अपने पासहै उसको परमात्मा की अनुकंपा की तरह स्वीकार करना और अपनी हर उपलब्धि को ईश्वर के नाम करते जाना, यही मुक्ति तक पहुंचने का सहजमार्ग है। इसी को सहजयोग कहा गया है। उस अवस्था में कामनाओं का समाजीकरण होने लगता है। इच्छाएं लोकहित के साथ जुड़कर पवित्र हो जाती हैं। उस अवस्था में व्यक्ति का कुछ भी अपना नहीं रहता। वह परहित को अपना हित, जनकल्याण में निज कल्याणकी प्रतीति करने लगता है।

दूसरे शब्दों में मुक्ति का एक अर्थ निष्काम हो जाना भी है निष्काम होने का अभिप्राय निष्कर्म होना अथवा कर्म से पलायन नहीं है। कर्म करते हुए, सांसारिक कर्र्मो में अपनी लिप्तता बनाएरखकर भी निष्काम हो जाना सुनने में असंभव और विचित्र सा लगता है? नादान अकर्मण्यता को ही निष्काम्यता का पर्याय मान लेता है। कुछ लोग निष्काम होने के लिए संन्यास की शरण में जाते रहे हैं। लेकिन देह पर संन्यासी बाना धारण कर वन।वन घूमने से तो सचमुचका वैराग्य संभव नहीं। जब तक मन मोहमाया से ग्रस्त है तब तक कर्मसंन्यास की वास्तविक स्थिति कैसे संभव हो सकती है। इस उलझन को सुलझाने का रास्ता भी गीता मैं है। कृष्ण कहते हैं कि कर्म करो, मगर फल की इच्छा का त्याग कर दो। निष्काम कर्म यानी कर्म करते हुए कर्म का बोध न होने देना, यह प्रतीति बनाए रखना कि मैं तो निमित्तमात्र हूं, कर्ता तो कोई और है, 'त्वदीयं वस्तु गोविंदम तुभ्यमेवसमप्यते' भावना के साथ सारे कर्म, समस्त कर्मफलों को ईश्वर-निर्मित मानकर उसी को समर्पित करते चले जाना ही कर्मयोग है। कर्म करते हुए फल की वांछा का त्याग ही विकर्म है, और यह प्रतीति कि मैं तो केवल निमित्तमात्र हूं, जो किया परमात्मा के लिए किया, जो हुआ परमात्मा के इशारे पर उसी के निमित्त हुआ, यह धारणा कर्म को अकर्म की ऊंचाई जक पहुंचा देती है। संसार से भागकर कर्म से पलायन करने की अपेक्षा संसार में रहते हुए कर्मयोग को साधना कठिन है। इसीलिए तो श्रीकृष्ण गीता में कहते हैं कि कर्मसंन्यास कर्मयोग की अपेक्षा श्रेष्ठ हो सकता है, तो भी कर्मयोगी होना कर्म संन्यासी की अपेक्षा विशिष्ट उससे बढ़कर है:

कर्मयोगेश्व कर्मसंन्यासयात निश्रेयंस कराभुवौ।
तयोस्तु कर्मसंन्यासात कर्मयोगी विशिष्यते।।

कर्मयोगी होना तलवार की धार पर चलकर मंजिल को तक पहुंचना है। सांसारिक प्रलोभनों से दूर होने के लिए उससे भाग जाना कर्म संन्यास में संभव है, मगर कर्मयोगी को तो संसार में रहते हुए ही उसके प्रलोभनों से निस्तार पाना होता है। ऐसे कर्मयोग को साधाकैसे जाए! संसार में रहकर उसके मोह से कैसे दूर रहा जाए, इसके लिए विभिन्न धर्मदर्शनों में अलग-अलग विधान हैं, हालांकि उनकामूलस्वर प्राय एक जैसा है। मुनिगण इसके लिए तत्व-चिंतन में लगे रहते हैं। ऋषिगण मानव-व्यवहार को नियंत्राित और मर्यादित रखने के लिए नूतन विधान गढ़ते रहते हैं। प्राचीन भारतीय मनीषियों द्वारा चार पुरुषार्थों की अभिकल्पना भी इसी के निमित्त की गई है।हिंदू परंपरा के चारों पुरुषार्थ असल जीवन के विभिन्न अर्थों में बहुआयामी सिद्धियों के भी सूचक हैं। धर्मरूपी पुरुषार्थ को साधनेका अभिप्राय है, कि हम लोकाचार में पारंगत हो चुके हैं। संसार में रहकर क्या करना चाहिए, और क्या नहीं इस सत्य को जान चुके हैं। और हम जान चुके हैं कि यह समस्त चराचर सृष्टि, भांति।भांति के जीव, वन।वनस्पति एक ही परमचेतना से उपजे हैं। एक ही परम।पिताकी संतान होने के कारण हम सब भाई भाई हैं। ध्यान रहे कि धर्म का मतलब पुरुषार्थ के रूप में सिर्फ परमात्मा तक पहुंचने का, उसकोजानने की तैयारी करना अथवा जान लेना ही नहीं है। ये सब बातें अध्यात्म के खाते में आती हैं। तब धर्म क्या है?

इस बारे में मनुस्मृति मेंएक दृष्टांत दिया गया है। धर्म क्या है, यह जानने के लिए ऋषिगण भृगु मुनि के निकट पहुंचे। मुनि के समक्ष अपनी जिज्ञासा रखते हुए उन्होंने कहा—'महाराज! हम धर्म जानना चाहते हैं?' इसपर भृगु जी ने उत्तर दिया–'जो अच्छे विद्वान लोग हैं, जो सबके प्रति कल्याण-भाव रखते हैं, वे जो आचरण करते हैं, सेवित करते हैं, उनके द्वारा जो आचरित होता है, वही धर्म है। धर्म की इस परिभाषा में न तो आत्मा है, न ही परमात्मा। दूसरे शब्दों में धर्म नैतिकता और सदाचरण का पर्याय है। भारतीय मेधा को अपने अद्वितीय तत्वचिंतन के कारण विश्वभर में सराहना मिली है। प्रमुख भारतीय दर्शनों न्याय, वैशेषिक, जैन, बौद्ध, चार्वाक, मीमांसा और वेदांत आदि सभी में विद्धान मुनिगण अपनी-अपनी तरह से जीवन और सृष्टि के रहस्यों की पड़ताल करने का प्रयास करते हैं। उनके दर्शन में कल्पना की अदभुत उड़ान है। इनमें से जैन, बौद्ध और वेदांत दर्शन तात्विक विवेचना के साथ।साथ जीवनको सरल और सुखमय बनाने के लिए व्यावहारिक सिद्धांत भी देते हैं। बौद्ध अष्ठधम्म पद की राह सुझाता है। जैन इसी तथ्य को और सहजता से जानने के लिए एक कहानी का सहारा लिया जा सकता है।  

एक राजा था। बहुत ही उदार,प्रजावत्सल। सभी का ख्याल रखने वाला। उसके राज्य में अनेक शिल्पकार थे। एक से बढ़कर एक, बेजोड़ राजा ने उन शिल्पकारों की दुर्दशा देखी तो उनके लिए एक बाजार लगाने का प्रयास किया। घोषणा की कि बाजार में संध्याकाल तक जो कलाकृति अनबिकी रहजाएगी, उसको वह स्वयं खरीद लगेगा। राजा का आदेश, बाजार लगने लगा।

एक दिन बाजार में एक शिल्पकार लक्ष्मी की ढेर सारी मूर्तियां लेकर पहुंचा। मूर्तियां बेजोड़ थीं। संध्याकाल तक उस शिल्पकार की सारी की सारी मूर्तियां बिक गईं। सिवाय एक के। वह मूर्ति अलक्ष्मी की थी। अब भला अलक्ष्मी की मूर्ति को कौन खरीदता! उस मूर्ति को न तो बिकना था, न बिकी। संध्या समय शिल्पकार उस मूर्ति को लेकरराजा के पास पहुंचा। मंत्री राजा के पास था। उसने सलाह दी कि राजा उस मूर्ति को खरीदने से इनकार कर दें। अलक्ष्मी की मूर्ति देखकर लक्ष्मीजी नाराज हो सकती हैं। लेकिन राजा अपने वचन से बंधा था।'मैंने हाट में संध्याकाल तक अनबिकी वस्तुओं को खरीदने का वचन दिया है। अपने वचन का पालन करना मेरा धर्म है। मैं इसमूर्ति को खरीदने से मना कर अपने धर्म से नहीं डिग सकता।'और राजा ने वह मूर्ति खरीद ली।दिन भर के कार्यों से निवृत्त होकर राजा सोने चला तो एक स्त्री की आवाज सुनकर चौंक पड़ा।

राजा अपने महल के दरवाजे पर पहुंचा। देखा तो एक बेशकीमती वस्त्रा, रत्नाभूषण से सुसज्जित स्त्री रो रही है। राजा ने रोने का कारण पूछा।'मैं लक्ष्मी हूं। वर्षों से आपके राजमहल में रहती आई हूं। आज आपने अलक्ष्मी की मूर्ति लाकर मेरा अपमान किया। आप उसको अभी इस महल से बाहर निकालें।''देवि, मैंने वचन दिया है कि संध्याकाल तक तो भी कलाकृति अनबिकी रह जाएगी, उसको मैं खरीद लूंगा।''उस कलाकार को मूर्ति का दाम देकर आपने अपने वचन की रक्षा कर ली है, अब तो आप इस मूर्ति को फेंक सकते हैं!''नहीं देवि, अपने राज्य के शिल्पकारों की कला का सम्मान करना भी मेरा धर्म है, मैं इस मूर्ति को नहीं फेंक सकता।''तो ठीक है, अपने अपना धर्म निभाइए। मैं जा रही हूं।' राजा की बात सुनकर लक्ष्मी बोली और वहां से प्रस्थान कर गई। राजा अपने शयनकक्ष की ओर जाने के लिए मुड़ा। तभी पीछे से आहट हुई। राजा ने मुड़कर देखा, दुग्ध धवल वस्त्रााभूषण धारण किए एक दिव्यआकृति सामने उपस्थित थी। 'आप?' राजा ने प्रश्न किया। 'मैं नारायण हूं। राजन आपने मेरी पत्नी लक्ष्मी का अपमान किया है। मैं उनके बगैर नहीं रह सकता। आप अपने निर्णय परपुनर्विचार करें।''मैं अपने धर्म से बंधा हूं देव।' राजा ने विनम्र होकर कहा।'तब तो मुझे भी जाना ही होगा।' कहकर नारायण भी वहां से जाने लगे।

राजा फिर अपने शयनकक्ष में जाने को मुड़ा। तभी एकऔर दिव्य आकृति पर उसकी निगाह पड़ी। कदम ठिठक गए।'आप भी इस महल को छोड़कर जाना चाहते हैं, जो चले जाइए, लेकिन मैं अपने धर्म से पीछे नहीं हट सकता।'यह सुनकर वह दिव्य आकृति मुस्कराई, बोली।'मैं तो धर्मराज हूं। मैं भला आपको छोड़कर कैसे जा सकता हूं। मैं तो नारायणको विदा करने आया था।'उसी रात राजा ने सपना देखा। सपने में नारायण और लक्ष्मी दोनों ही थे। हाथ जोड़कर क्षमायाचना करते हुए-'राजन हमसे भूल हुई है, जहां धर्म है, वहीं हमारा ठिकाना है। हम वापस लौट रहे हैं।' और सचमुच अगली सुबह राजा जब अपने मंदिर में पहुंचा तो वहां नारायण और नारायणी दोनों ही थे।

आप ऐसी कथाओं पर चाहें विश्वास न करें। परंतु इस तरह की कथाएं रची जाती रही हैं, ताकि मनुष्य अपने कर्तव्यपथ से, नैतिकता से बंधा रहे। धर्म और अध्यात्म का घालमेल कुछ धार्मिक कूप-मंडूकता और स्वार्थी राजनेताओं के छल का परिणाम है। वास्तव में तो धर्म उनजीवनमूल्यों में आस्था और उनका अभिधारण है, जिनके अभाव में यह समाज चल ही नहीं सकता। जिनकी उपस्थिति उसके स्थायित्व केलिए अनिवार्य है। विभिन्न समाजों की आध्यात्मिक मान्यताओं, उनकी पूजा पद्धतियों में अंतर हो सकता है, मगर उनके जीवनमूल्य प्राय: एकसमान और अपरिवर्तनीय होते हैं। जब हम धर्म की बात करते हैं और यह मान लेते हैं कि हमें संसार में रहकर अध्यात्म को साधनाहै तो मामला नैतिकता पर आकर टिक जाता है। नैतिकता बड़ी ऊंची चीज है। यह कर्मयोगी को राह दिखाती है, कर्मसंन्यासी कापथ।प्रशस्त करती है। नैतिक होना मनसा, वाचा कर्मणा पवित्रा होना भी है। आचरण की पवितत्राता, मन की पवित्राता और देह की पवित्राताही मानवधर्म है। यहां जब हम देह की बात करते हैं तो उसके पीछे उसका पूरा परिवेश स्वत: ही समाहित हो जाता है।

मनुष्य बौद्ध धर्म में इसे अष्ठधर्म के सिद्धांत के आधार पर समझाया गया है।दूसरा हिंदू पुरुषार्थ है, अर्थ। संसार में जीने के लिए, सामाजिकता को बनाए रखने के लिए, आपसी व्यवहार को सुसंगत रूप में चलाने के लिए धन अत्यावश्यक है। वह जीवन-व्यवहार को सहज और सुगम बनाता है। जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए धनकी महत्ता से इन्कार नहीं किया जा सकता। यह सामाजिक प्रतिष्ठा का मूल है। मगर यहां एक पेंच है। धन को पुरुषार्थ मान लेने का अर्थ यह नहीं है कि किसी भी तरीके से अर्जित किया गया धन पुरुषार्थ है। या धन है तो उसका हर उपयोग सामाजिक-धार्मिक दृष्टि से मान्य है। चोरी, डकैती, वेश्यावृति और जुआ जैसे दुर्व्यसनों से अर्जित धन को समाज में हेय माना गया है। यहां तक कि उसका तिरष्कार भी किया जाता है।

मनुष्यता के उत्थान के लिए साध्य और साधन दोनों की पवित्रता जरूरी है। अत्यधिक धन अर्जित कर लेना, दूसरे के हिस्से का धन हड़प लेना भी पुरुषार्थ नहीं है। धन के पुरुषार्थ मानने का अभिप्राय उससे जुड़े समूचे व्यवहार के मानवीकरण से है। अस्तेय और अपरिग्रह जैसी शास्त्रीय व्यवस्थाएं धर्नाजन और उससे जुड़े प्रत्येक व्यवहार को मानवीय बनाए रखने के लिए की गई हैं। जिसका अभिप्राय है कि चोरी-डकैती अथवा लोकमान्य विधियों से अलग ढंग से अर्जित किया गया धन पाप है। धन उतना ही होना चाहिए जितना कि गृहस्थ जीवन को सुगम बनाए रखने के लिए आवश्यक है। कबीर ने धनार्जन को लेकर बहुत अर्थपूर्ण बात कही है। साधु इतना दीजिए जामे कुटुंब समाय,मैं भी भूखा न रहूं, साधू न भूखा जाए। धन का अपव्यय आलोचना का विषय है तो उसे व्यय करने के लिए समझदारी की जरूरत पड़ती है। वृथा आडंबरों, लोक-दिखावे, कोरी प्रतिष्ठा, जुआ एवं शराबखोरी जैसे दुर्व्यसनों पर खर्च करने के  पुरुषार्थ-सिद्धि असंभव है।

दूसरे शब्दों में धन को पुरुषार्थ की गरिमा से विभूषित करना, तत्संबंधी प्रत्येक व्यवहार को मानवीय रूप प्रदान करना है। इस तरह सिर्फ लोकमान्य विधि से अर्जित धन को लोकमान्य तरीकों से खर्च करने में ही में पुरुषार्थ-सिद्धि संभव है। काम को हिंदू-परंपरा तीसरे पुरुषार्थ के रूप में मानती है। संसार को गतिमान बनाए रखने के लिए काम अत्यावश्यक है। इससे संततिचक्र आगे बढ़ता है। इसके लिए भी धार्मिक व्यवस्थाएं है। मुक्त, उच्छ्रंखल काम-संबंध समाज-व्यवस्था को न केवल धराशायी कर सकते हैं, बल्कि उसमें इतना विक्षोभ पैदा कर सकते हैं कि यह पूरा का पूरा सिस्टम ही छिन्न-भिन्न हो जाए। काम को नियमित-नियंत्रित करने के लिए ही विभिन्न सामाजिक संबंधों की व्यवस्था हुई है, उनके लिए मर्यादाएं निश्चित की गईं।

नैतिकता को बनाए रखने के लिएजो नियम बने उन्हें धर्म और धार्मिकता का आवरण प्रदान किया गया, जिससे वे अधिक से अधिक लोगों के लिए सहज ग्राहय: हो सकें। यहां तक कि उनके साथ आस्था का प्रसंग भी जोड़ा गया, ताकि वृहद सामाजिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए उन्हें कुछेक व्यक्तियों के हित में तोड़ा-मरोड़ा न जा सके। वैवाहिक संस्था के गठन का प्रमुख उददेश्य काम-संबंधों को सामाजिक मर्यादा के दायरे में लाना ही है। निर्धारित कसौटियों पर खरे उतरने वाले काम-संबंध ही तीसरे पुरुषार्थ के रूप में मान्य कहे जा सकते हैं। प्रथम तीनों पुरुषार्थों की सिद्धि के साथ मनुष्य जब धर्म को अपना आचरण बना लेता है, सदाचार और सदव्यवहार उसके रोजमर्रा के जीवन का अंग बन जाते हैं, 'अर्थ'और 'काम' के बीच जब वह संतुलन कायम कर चुका होता है, तब वह साधारण लोगों के स्तर से बहुत ऊपर पहुंच उठ जाता है, इसी को परमात्मा के करीब पहुंच जाना कहते हैं। यही मोक्ष की अवस्था है, जहां सिर्फ पवित्राता ही पवित्राता है। किसी भी प्रकार का विक्षोभ याविकार नहीं। यदि कोई विक्षोभ है, यदि कहीं विकार अथवा असंगति नजर आती है, तो दोष हमारी दृष्टि का है, उस विधान का है जो हमने अपनी सुविधा के हिसाब से प्राकृतिक नियमों को ताक पर रखकर रचा है।

हिंदू धर्म के चारों पुरुषार्थ मानव जीवन को मर्यादित करते हैं। मनुष्य को सिखाते हैं कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं। लेकिन आप इसे जनसामान्य की दुनिया से उकताहट का परिणाम माने अथवा उसकी अपने आराध्य के प्रति समर्पण की तीव्र अभिलाषा, या फिर अलभ्य को पा लेने की जनसामान्य की सहज स्वाभाविक लालसा, जिसके कारण वह मात्रा नियंत्रित जीवनचर्या यानी पुरुषार्थ-चातुर्य प रनिर्भर नहीं रहना चाहता। मोक्ष की कामना उसको वैकल्पिक रास्तों तक ले ही जाती है। धर्मशास्त्रां में मुक्ति यानी परमात्मा को पाने के जोदो प्रमुखमार्ग बताए गए हैं, पहला है ज्ञानमार्ग। वस्तुत: मानव जिज्ञासा की पहली उड़ान इस सृष्टि और उसके रचियता के बारे में जान लेनेके बोध के साथ ही हुई थी। ज्ञानमार्गी के अनुसार ईश्वर की दी गई इंद्रियां और दिमाग उस तक पहुंचने का सर्वोत्तम माध्यम हैं। परमात्माको जान लेना ही उसको प्राप्त कर लेना है।ज्ञानमार्गी इसी विश्वास के साथ चिंतन।मनन में डूबे रहते थे। उनकी ज्ञानसाधना के सुफल के रूप में अनेक दर्शनों का जन्म हुआ। वेद, उपनिषद आदि महान ग्रंथों की रचना हुई।

ये उदाहरण सिर्फ भारत के हैं। विश्व की बाकी सभ्यताओं में सृष्टि से जुड़ी जिज्ञासा ने भी अनेक दर्शनों को जन्म दिया है। हालांकि इस क्षेत्रा में उनकी उपलब्धियां भारतीय मेधा का ही अनुसरण करती हुई नजर आईं। बल्कि कहना चाहिए कि वे भारतीय वांङमय की उत्कष्टृ व्याख्या अथवा पुनर्प्रस्तुति से आगे न बढ़ सकीं।ज्ञानमार्गी परंपरा को विस्तार देते हुए आदि शंकराचार्य ने नवीं शताब्दी के आरंभिक दशकों में अद्वैत दर्शन का विचार प्रस्तुतकिया था। उन्होंने जैमिनी के मीमांसा दर्शन द्वारा पोषित-प्रेरित और रूढ़ हो चुके कर्मकांड़ों तथा लोकायतों के विशुद्ध भौतिकवादी दर्शन केस्थान पर वेदांत दर्शन को स्थापित किया। इसके लिए उन्होंने देश के विभिन्न भागों में जाकर बौद्धों और मीमांसकों से गंभीर शास्त्राार्थ किएथे, जिनमें उनका मंडन मिश्र के साथ हुआ शास्त्रार्थ जगत-प्रसिद्ध है। अपनी अप्रतिम प्रतिभा के बल पर शंकराचार्य ने परमात्मा को अनित्य,अनादि, अनंत, अनश्वर, अविकल्प सत्ता माना था।

इसके समानांतर उनके परिवर्ती रामानुजाचार्य ने विशिष्टाद्वैत दर्शन का सिद्धांत रखा। दोनों के ही विचारों में अवतारवाद को मान्यता दी गई थी, लेकिन शंकराचार्य द्वारा प्रतिपादित दर्शन में जीवन और सृष्टि के रहस्यों परअर्थिक तार्किक दृष्टि से विचार किया गया था। सृष्टि के मूल के रूप में शंकराचार्य ने 'बृह्म सत्यं जगन्न्मिथ्या' की अवधारणा के साथ जिसनिस्सीम, निर्विकल्प, अनादि और अनंत परमसत्ता की संकल्पना समाज के सामने रखी, वह वेदों और उपनिषदों से उदभूत थी, जिसके आगे ईश्वर और उसके अवतारों को बहुत कम महत्त्व दिया गया था। दूसरी ओर रामानुज ने सदेह ईश्वरवाद को महत्त्व देते हुए विष्णु को सृष्टि का पालक और संचालक माना। वेदांत दर्शन के अंतर्गत शंकराचार्य ने सृष्टि की तत्वमींमासीय व्याख्या की थी, उनके द्वारा स्थापित चारमठों में प्रमुख गोवर्धनपीठ का तो मुख्यवाक्य ही 'प्रज्ञानम बृह्म' (ज्ञान ही बृह्म) है। लेकिन जनसाधारण के लिए उन्होंने भक्ति को भी पर्याप्तमहत्ता दी। यही कारण है कि शंकराचार्य और उनका दर्शन स्मार्त्त और वैष्णव दोनों संप्रदायों में एकसमान प्रतिष्ठा प्राप्त कर सका। शंकराचार्य के प्रयासों से हिंदू धर्म संगठित हुआ। मगर कुछ ही अर्से बाद ज्ञान की उस परंपरा में ठहराव आने लगा।

कुछ स्वार्थी,धर्मान्ध और कर्मकांड-प्रिय लोगों ने अपनी सत्ता को बनाए रखने के लिए समाज को जातीय आधार पर विभाजित करना आरंभ कर दिया।यहां तक कि वेद-शास्त्रां और पूजा-पद्धति के आधार पर भी नए।नए संप्रदाय बनने लगे। जातीय।स्तरीकरण को शास्त्रीय आधार प्रदान करनेके लिए स्मृति और पुराण गढ़े जाने लगे। परिणाम यह हुआ कि परमसत्ता के प्रतीक अनादि, अनश्वर, निराकार, निगुण 'बृह्म' का स्थान दो हाथ, दो पांव वाले देवताओं ने ले लिया। कर्मकांड और वर्गभेद के समर्थन पर टिकी इस व्यवस्था का ज्ञान की पुरातन परंपरा से कोई लगाव न था। विभिन्न मताबलंबियों के बीच आए दिन के विवाद छिड़ने और बहस का स्तर नीचे जाने से प्रचलित दार्शनिक मान्यताओं कास्थूलीकरण होने लगा। परिणामस्वरूप चिंतनधारा सूखने लगी। कर्मकांडों और रूढ़ियों में फंसा धर्म अपनी ही मूल स्थापनाओं से परे हटने लगा।

इस नई परंपरा में जनसाधारण के लिए, सिवाय उसके सामाजिक आर्थिक सामाजिक शोषण के कोई और स्थान न था। एक के बाद एक दर्शनों की खोज एवं विशद चिंतनपरक भीमकाय ग्रंथों की रचना के बावजूद जब मुनिगण ज्ञान के द्वारापरमात्मा और उसकी सृष्टि के बारे में उठे प्रश्नों का सही और सटीक जबाव देने में नाकाम रहे तो लोगों को लगने लगा कि मनुष्य के बुद्धि विवेक की भी सीमा है। इनके माध्यम से जीवन और संसार की अनेक समस्याओं को सुलझाया तो जा सकता है, मनुष्य की भौतिक आवश्यकताओं को नित नए रूप और उड़ान भी दी जा सकती है। मगर इससे सृष्टि और उसकी संरचना से जुड़े अनगिनत प्रश्नों को पूरी तरह हल नहीं किया जा सकता।


Current Affairs National/Social Issue Manmohan Singh's three-day visit to Saudi Arabia


India & World

Content:

  1. Manmohan Singh's three-day visit to Saudi Arabia
  2. 3,500 pilgrims from India take part in Kachchatheevu festival

Brief Description:

Manmohan Singh's three-day visit to Saudi Arabia

  1. India signs extradition treaty and a few other agreements with Saudi Arabia
    • India and Saudi Arabia have vowed to jointly combat terrorism and money laundering as they signed an extradition treaty and several agreements to raise their cooperation to a strategic partnership covering security, economic, energy and defence areas. The extradition treaty enhances existing security cooperation and will help in apprehending wanted persons in each other's country.
    • Prime Minister Manmohan Singh and Saudi King Abdullah signed the Riyadh Declaration outlining the contours of a new era of strategic partnership between the two countries. Both sides emphasised the importance of strengthening the strategic energy partnership in line with the Delhi Declaration of 2006, including meeting India's increasing requirement of crude oil supplies and identifying areas of new and renewable energy.
    • India and Saudi Arabia also signed four other agreements relating to transfer of sentenced persons, cultural cooperation, memorandum of understanding between Indian Space Research Organisation and King Abdulaziz City for Science and Technology for cooperation in peaceful use of outer space and joint research and information technology.
  2. Analysis
    • Prime Minister Manmohan Singh's three-day visit to Saudi Arabia, though long overdue, ended on a high note. As a result of his discussions with the top leadership here for the past three days, both India and Saudi Arabia have agreed to upgrade their relationship to "strategic partnership.The Prime Minister said the strategic partnership would cover issues relating to security, cooperation in dealing with terrorism and arrangements for information and intelligence sharing.
    • Dr. Singh and King Abdullah bin Abdul-Aziz covered substantial ground and managed to pin down specific areas for further collaboration. Determined to go beyond their traditional buyer-seller energy relationship, the two leaders opened up a much wider common agenda, including such exciting areas as outer space, renewable energy, and advanced computing.
    • Four years after King Abdullah made a pioneering visit to India, the vision of a comprehensive political, security, and economic relationship, anchored in the Riyadh Declaration signed during Dr. Singh's visit, now stands firmly established. The Riyadh Declaration, which came four years after the 2006 Delhi Declaration, said the two leaders noted that tolerance, religious harmony and brotherhood, irrespective of faith or ethnic background, were part of the principles and values of both countries.
    • The Prime Minister's visit to Saudi Arabia, which is not only the world's largest oil producer but also a regional heavyweight, is also likely to leave its stabilising imprint on other areas in West Asia. These include the neighbouring oil rich countries of the Gulf Cooperation Council (GCC), which are encountering serious security challenges.
    • Significantly, the visit has added a prominent security dimension to bilateral ties. Saudi Arabia and India fully appreciate that they are common victims of terrorism. They are both targeted by the forces of global jihad, entrenched in the rugged mountain ranges on either side of the Afghanistan-Pakistan border. If Mumbai was India's terror nightmare, Riyadh too faced a string of devastating bombings in 2003, when al Qaeda operatives blew up prominent residential compounds. Saudi Arabia continues to remain in the cross-hairs of the al Qaeda in the Arabian Peninsula (AQAP), which operates out of neighbouring Yemen.
    • The signing of an extradition treaty during Dr. Singh's visit therefore needs to be welcomed as a major breakthrough. From an Indian perspective, there is now hope that outfits like the Lashkar-e-Taiba (LeT), whose operatives reportedly visit Saudi Arabia for various purposes, will be captured by Saudi authorities and sent to face the law in India.
    • Further, the shared focus on safeguarding the "sovereignty and independence" of Afghanistan must be welcomed.
    • In a visit that otherwise went so well, New Delhi's hardly concealed interest in seeking Riyadh's "good offices" to moderate Pakistan's behaviour has struck a jarring note. The suggestion appeared quite unnecessary as serious discussions on the Pakistan situation are expected to be integral to the fast-developing India-Saudi security relationship. By overtly drawing Saudi Arabia into the India-Pakistan equation, the United Progressive Alliance government has needlessly opened itself to the charge of diluting the principle of bilateralism that has, by virtue of a national consensus, governed New Delhi's engagement with Islamabad.(-ve)
    • the Shura Council – Saudi parliament
  3. Controversy -BJP wants Manmohan, Tharoor to explain remarks on Saudi Arabia
    • The latest controversy over Shashi Tharoor's remarks,the junior minister's reference to Saudi Arabia being a "valuable interlocutor for [India]" as assigning Riyadh a mediatory role between New Delhi and Islamabad.
    • 'Interlocutor' means a person or entity or country involved in a conversation. And the Minister of State for External Affairs was clearly talking about the value of Saudi Arabia as a dialogue partner for India on the subject of Pakistan.
    • The Bharatiya Janata Party indicated that it would ask Prime Minister Manmohan Singh and his Cabinet colleague Shashi Tharoor to "explain" what they meant by saying India should talk to Saudi Arabia about Pakistan-inspired terrorism.
    • Was this the start of the end of bilateralism in India-Pakistan dialogue?
  4. Riyadh 'worried' about Pakistan situation
    • While terming Pakistan a "friendly country," Saudi Arabia on Sunday said it was "worried" about the prevailing situation and spread of extremism there and appealed to political leaders in Pakistan to unite and meet the challenges.
3,500 pilgrims from India take part in Kachchatheevu festival

 

National (Political & Social) Issues

Content:

  1. Women's Reservation Bill
  2. Navy plane at Hyderabad air show crashes

Brief Description:

Women's reservation bill

1. Cabinet nod for Women's Reservation Bill

  • The Union Cabinet approved the Women's Reservation Bill, 2008, that seeks to reserve 33 per cent seats for women in the Lok Sabha and State Assemblies.
  • The Parliamentary Standing Committee has approved the 108th Constitutional Amendment Bill in its original form with minor changes.
  • The Bill was tabled in the Rajya Sabha in 2008 and was subsequently referred to the Parliamentary Standing Committee on Law, Justice and Personnel, which in its report submitted in December last year had recommended its early passage in the present form saying that the decision should not be left to the discretion of parties.

2. Women's quota bill set to sail through in Rajya Sabha

  • With the numbers stacked in its favour, the women's reservation bill, which seeks to reserve 33% seats in the Lok Sabha and state assemblies for women, is set to get the Rajya Sabha's nod on Monday.
  • The Business Advisory Committee (BAC) of the Rajya Sabha, which met on Thursday evening, allotted four hours to debate and vote the legislation. The bill, which has been approved afresh by the Union Cabinet, will be tabled in the House the same day.

Navy plane at Hyderabad air show crashes

  • An Indian Navy aircraft participating in an aerobatic display as part of the India Aviation 2010 exhibition at the Begumpet airport crashed into a building in the densely populated Bowenpally.
  • The Navy announced the grounding of all HJT-16 Kiran MK-II aircraft which form part of the Sagar Pawan Aerobatic Demonstration Team. It ordered an inquiry.
  • This naval aircraft crash in Hyderabad is the fourth fatal incident involving aerial display teams in the last four years.
  • The IAF operates the Surya Kiran Aerobatic Team (SKAT) and the Sarang helicopter display team, while the Navy has the four-aircraft Sagar Pawan Aerobatic Team (SPAT).
  • The SKAT and the SPAT perform aerobatics with the HAL-built HJT 16 Kiran Mk-II aircraft and the Sarang team performs aerial displays using indigenously built ALH Dhruv choppers.
  • the SPAT, formed in 2003,The first fatal accident involving the SKAT took place near its home base in Bidar, Karnataka, on March 18, 2006.In February 2007, the Sarang team had its first fatal accident when one of its ALH Dhruv choppers crashed in Bangalore during a rehearsal before the Aero India show there.

Arunachal Pradesh-specific project

  • A World Bank document says external affairs minister SM Krishna has stated that "India will not pose any Arunachal Pradesh-specific project" to the Bank, and that the Chinese executive director at the Bank is pressing for the operationalisation of this statement.
  • This amounts to conceding China's persistent claims of Arunachal Pradesh being a "disputed territory" and runs contrary to the stated opinion that the state is "an integral part of India".
  • It may be recalled that it was only eight months ago that the Indian government had sharply attacked Beijing for criticising Prime Minister Manmohan Singh's visit to Arunachal Pradesh and his reference to the state as "our land of the rising sun". During the verbal skirmishes with Beijing at that time, India had said China has no business to interfere in the affairs of a territory that is an integral part of India.

Demand for Nagaland sovereignty rejected

  • The Union government and the NSCN (IM), a Naga insurgent group, continued talks for the second day.
  • The Centre rejected the outfit's demand for sovereignty for Nagaland and its territorial claims to portions of neighbouring States.

Advanced Technology Vehicle successfully flight-tested

  • The Indian Space Research Organisation (ISRO) successfully flight-tested its new-generation, high-performance sounding rocket at the spaceport in Sriharikota.
  • The Advanced Technology Vehicle (ATV- D01), weighing three tonnes at lift-off, is the heaviest sounding rocket developed by the ISRO.
  • It carries a passive scramjet (supersonic combustion ramjet) engine combustor module as a test-bed for a demonstration of the air-breathing propulsion technology. An ISRO release said the rocket successfully flew at a velocity of more than Mach 6 (six times the speed of sound) for seven seconds.
  • These conditions were required for a stable ignition of active scramjet engine combustor module planned in the next ATV flight.

New generation Airbus A320 joins Air India fleet

  • The first of the new generation Airbus A320 joined the Air India fleet . It has a host of latest facilities, including advanced Weather Radar System, Enhanced Ground Proximity Warning System (EGPWS) and an LCD cockpit display system.
  • The 140-seater aircraft is also equipped with the latest digital cabin management system. The aircraft, the 74th of the 111 ordered by the national carrier as part of its fleet acquisition, will be on display at India Aviation 2010.

Stampede in a UP ashram kills 65

  • At least 65 people — nearly all of them women and children — were killed and 28 others injured in a stampede on Thursday in a local ashram after a collapse of its gate triggered panic among about 10,000 people who had converged for a ritual. Thirty seven women and 26 children were among those killed after they were trampled over by the crowd that had gathered at Kripalu Maharaj's ashram.
  • Stampedes at temples and other religious places in India have claimed nearly 700 lives in the past eight years.
  • On September 30, 2008, nearly 150 devotees were killed and over 60 injured in a stampede at Chamunda Devi temple in Rajasthan's Jodhpur city. The incident took place when there was a rumour of a bomb going off. More than 10,000 people had turned up at the famous temple for a darshan. Such a tragedy at the Hindu temple of Naina Devi in Himachal on August 3, 2008, had claimed 150 people, mainly women and children, and injured about 230.

SIT Special Public Prosecutor, deputy resign

  • The Special Public Prosecutor and his deputy, appearing for the Supreme Court-appointed Special Investigation Team before the special court trying the 2002 Gulberg Society massacre case, have submitted their resignations, throwing the entire proceedings haywire.
  • R.K. Shah and his deputy Nainaben Bhatt sent in their resignation papers  to SIT chairman R.K. Raghavan.

Concern over delay in mass nesting of Oilve Ridley turtles

  • The mood and pattern of nesting of Olive Ridley turtles still continues to be a mystery.
  • Although there was a large congregation of these endangered turtles in the sea near the Rushikulya rookery for mating, they are yet to come over to the beach for mass nesting.
  • Sporadic nesting of Olive Ridley turtles is on at Rushikulya river mouth coast and Devi river mouth coast. But mass nesting of these turtles is on at Gahirmatha coast.

Panel moots age limit for kids on reality shows

  • The National Commission for Protection of Child Rights (NCPCR) has recommended that children below the age of seven years be not allowed to participate in reality shows on television channels.
  • NCPCR chairperson Santha Sinha.
  • The recommendation would be forwarded to the Union government within the next two weeks. The NCPCR has been working on violation of child rights on reality shows for the past two years.

India upset with Holbrooke view on Kabul attack

  • Indian officials have described as "absolutely incorrect" the statement by Washington's AfPak envoy, Richard Holbrooke, that India was not the target of last week's terrorist attack in Kabul.

Admiral Gorshkov deal to be finalised

  • The long-pending deal to finalise the price tag on aircraft carrier INS Vikramaditya (Admiral Gorshkov) could soon be taken up by the government as the Defence Ministry prepares to take the case to the Cabinet Committee on Security (CCS).
  • That the Centre had finalised a price was announced last year during Prime Minister Manmohan Singh's visit to Russia, but the negotiations concluded towards the end of December 2009.
  • The contract negotiation committee gave its final verdict on the acquisition of the aircraft carrier, which is currently undergoing repairs and refit at the Sevmash shipyard in Russia.
  • The initial agreement of $974 million went up to $1.5 billion to include 16 MiG-29K aircraft for the carrier. The Russians increased the demand from $2.2 billion to $2.9 billion, even as the Comptroller and Auditor-General made critical observations regarding the deal.

Sikhs rescued from Taliban's clutches

  • Two Sikhs, abducted for ransom by the Taliban in the troubled Khyber tribal region bordering Afghanistan, were on Monday rescued by Pakistani security forces, a week after a Sikh trader was beheaded by the militant captors.
  • The operation was conducted in a remote area along the boundary between the Khyber and Aurakzai tribal regions on a tip-off from intelligence sources, a spokesman from the Inter-Services Public Relations said.

Assam Rifles soldiers for Haiti

  • The Government of India has decided to send a group of Assam Rifles soldiers as part of a police unit to Haiti under the aegis of the United Nations mission, keeping in view the good work done by the paramilitary force in the past.
  • He was speaking after reviewing a special attestation parade held at the Assam Rifles Training Centre and School here to mark the 175th anniversary the force.

Expert committee on Kolleru size' 

  • Union Minister for Environment and Forests Jairam Ramesh  promised to appoint a five-member expert committee to go into the plea for reduction of the size of wildlife sanctuary at Kolleru.

Funds for biotechnology research increased

  • Even as the controversy over Bt brinjal continues, the Union budget presented by Finance Minister Pranab Mukherjee provides for a 32 per cent increase in the allocation for the Department of Biotechnology in the Ministry of Science and Technology.
  • the budget provides for a concessional excise duty of four per cent for the solar-powered cycle-rickshaw developed by the Council of Scientific and Industrial Research (CSIR).
  • In addition, the key parts and components of the environment-friendly rickshaw, named 'Soleckshaw,' would be exempted from customs duty.

Iceberg-glacier collision could trigger climatic changes

  • An iceberg about the size of Luxembourg, which struck a glacier off Antarctica dislodging another massive block of ice, could lower oxygen levels in the world's oceans, Australian and French scientists said.
  • The two icebergs are now drifting together about 100 to 150 km off Antarctica, following the collision on February 12 or 13, said Australian Antarctic Division glaciologist Neal Young.

Tiger census begins in Buxa

  • The first phase of the tiger population census in West Bengal's Buxa Tiger Reserve has started. A Wildlife Institute of India estimate suggests that there may be just 10 tigers left in the reserve.
  • The National Tiger Conservation Authority has identified the reserve as one of the seven reserves, where the tiger density is critically low.

Manipur strike: ESMA may be invoked

  • The Manipur government is planning to invoke the Essential Services Maintenance Act (ESMA) against leaders of the striking government employees as those in the essential services have also joined the indefinite strike.
  • The government hospitals are paralysed and the out-patient departments closed. Reports say that paramilitary troopers may also join the strike.
  • The employees have been on strike since January 16 demanding payment of salary and allowances as per the recommendations of the Sixth Pay Commission.

SEWA's Ela Bhatt chosen for Niwano Peace Prize

  • Social worker Ela Bhatt has been chosen for the Niwano Peace Prize this year for her contribution to the uplift of poor women in India.
  • Ms. Bhatt, recognised as one of the pioneers in the development of the most oppressed and poorest women of India for more than three decades, will receive the award here on May 13.
  • The award, which recognises the significant contribution of an individual to inter-religious understanding and cooperation leading to world peace, comes with a certificate, a medal and prize money worth ¥20 million.
  • She set up the Self-Employed Women's Association (SEWA), a trade union, in 1972. Now, it has over 1.2 million members. In 1974, she established the SEWA cooperative bank, which now reaches out to around three million women.

Award for filmmaker Yavar Abbas

  • Veteran British-Asian filmmaker Yavar Abbas will be honoured with the Lifetime Achievement Award by the South Asian Cinema Foundation (SACF) here on March 4 for making films like India! My India!
  • The 90-year-old has documented the Partition years and delved into both Hinduism and Islam in his works.
  • In 1963, he started out as an independent filmmaker and set out on a filming safari, going overland from London to New Delhi shooting for India! My India!

Violence mars Santiniketan festival

  • Violence and boycott marked the "Basanta Utsav" (Spring Festival) on the Vishva-Bharati campus at Santiniketan.
  • The tradition of celebrating Basanta Utsav at Santiniketan was started by Nobel laureate Rabindranath Tagore himself and it is one of the two occasions that draws thousands to the university to witness and participate in the colourful festivities, including several cultural functions.

gk on मुग़ल-साम्राज्य

मुग़ल-साम्राज्य

 

बाबर

 

ज़हिर उद-दिन मुहम्मद (14 फरवरी 1483 – 26 दिसम्बर 1530) जो बाबर के नाम से प्रसिद्ध हुआ, एक मुगल शासक था जिसका मूल मध्य एशिया था । वह भारत में मुगल वंश का संस्थापक था । वो तैमूर लंग का परपोता था और विश्वास रखता था कि चंगेज खां उसके वंश का पूर्वज था ।
 

आरंभिक जीवन
बाबर का जन्म फ़रगना घाटी के अंदिजन नामक शहर में हुआ था जो अब उज्बेकिस्तान में है । वो अपने पिता उमर शेख़ मिर्ज़ा, जो फरगना घाटी के शासक थे तथा जिसको उसने एक ठिगने कद के तगड़े जिस्म, मांसल चेहरे तथा गोल दाढ़ी वाले व्यक्ति के रूप में वर्णित किया है, तथा माता कुतलुग निगार खानम का ज्येष्ठ पुत्र था । हंलांकि बाबर का मूल मंगोलिया के बर्लास कबीले से सम्बन्धित था पर उस कबाले के लोगों पर फारसी तथा तुर्क जनजीवन का बहुत असर रहा था, वे इस्लाम में परिवर्तित हुए तथा उन्होने तुर्केस्तान को अपना वासस्थान बनाया । बाबर की मातृभाषा चागताई भाषा थीपर फ़ारसी, जो उस समय उस स्थान की आम बोलचाल की भाषा थी, में भी वो प्रवीण था । उसने चागताई में बाबरनामा के नाम से अपनी जीवनी लिखी ।

मंगोल जाति (जिसे फ़ारसी में मुगल कहते थे) का होने के बावजूद उसकी जनता और अनुचर तुर्क तथा फ़ारसी लोग थे । उसकी सेना में तुर्क, फारसी, पश्तो के अलावा बर्लास तथा मध्य एशियाई कबीले के लोग भी थे ।
कहा जाता है कि बाबर बहुत ही तगड़ा और शक्तिशाली था । ऐसा भी कहा जाता है कि सिर्फ व्यायाम के लिए वो दो लोगों को अपने दोनो कंधों पर लादकर उन्नयन ढाल पर दौड़ लेता था । लोककथाओं के अनुसार बाबर अपने राह में आने वाले सभी नदियों को तैर कर पार करता था । उसने गंगा को दो बार तैर कर पार किया ।
नाम
बाबर के चचेरे भाई मिर्ज़ा मुहम्मद हैदर ने लिखा है कि उस समय, जब चागताई लोग असभ्य तथा असंस्कृत थे तब उन्हे ज़हिर उद-दिन मुहम्मद का उच्चारण कठिन लगा । इस कारण उन्होंने इसका नाम बाबर रख दिया ।
सैन्य जीवन
सन् १४९४ में १२ वर्ष की आयु में ही उसे फ़रगना घाटी के शासक का पद सौंपा गया । उसके चाचाओं ने इस स्थिति का फायदा उठाया और बाबर को गद्दी से हटा दिया । कई सालों तक उसने निर्वासन में जीवन बिताया जब उसके साथ कुछ किसान और उसके सम्बंधी ही थे । १४९७ में उसने उज़्बेक शहर समरकंद पर आक्रमण किया और ७ महीनों के बाद उसे जीत भी लिया । इसी बीच, जब वह समरकंद पर आक्रमण कर रहा था तब, उसके एक सैनिक सरगना ने फ़रगना पर अपना अधिपत्य जमा लिया । जब बाबर इसपर वापस अधिकार करने फ़रगना आ रहा था तो उसकी सेना ने समरकंद में उसका साथ छोड़ दिया जिसके फलस्वरूप समरकंद और फ़रगना दोनो उसके हाथों से चले गए । सन् १५०१ में उसने समरकंद पर पुनः अधिकार कर लिया पर जल्द ही उसे उज़्बेक ख़ान मुहम्मद शायबानी ने हरा दिया और इस तरह समरकंद, जो उसके जीवन की एक बड़ी ख्वाहिश थी, उसके हाथों से फिर वापस निकल गया।
फरगना से अपने चन्द वफ़ादार सैनिकों के साथ भागने के बाद अगले तील सालों तक उसने अपनी सेना बनाने पर ध्यान केन्द्रित किया । इस क्रम में उसने बड़ी मात्रा में बदख़्शान प्रांत के ताज़िकों को अपनी सेना में भर्ती किया । सन् १५०४ में हिन्दूकुश की बर्फ़ीली चोटियों को पार करके उसने काबुल पर अपना नियंत्रण स्थापित किया । नए साम्राज्य के मिलने से उसने अपनी किस्मत के सितारे खुलने के सपने देखे । कुछ दिनों के बाद उसने हेरात के एक तैमूरवंशी हुसैन बैकरह, जो कि उसका दूर का रिश्तेदार भी था, के साथ मुहम्मद शायबानी के विरुद्ध सहयोग की संधि की । पर १५०६ में हुसैन की मृत्यु के कारण ऐसा नहीं हो पाया और उसने हेरात पर अपना नियंत्रण स्थापित कर लिया । पर दो महीनो के भीतर ही, साधनों के अभाव में उसे हेरात छोड़ना पड़ा । अपनी जीवनी में उसने हेरात को "बुद्धिजीवियों से भरे शहर" के रूप में वर्णित किया है । वहां पर उसे युईगूर कवि मीर अली शाह नवाई की रचनाओं के बारे में पता चला जो चागताई भाषा को साहित्य की भाषा बनाने के पक्ष में थे । शायद बाबर को अपनी जीवनी चागताई भाषा में लिखने की प्रेरणा उन्हीं से मिली होगी ।
काबुल लौटने के दो साल के भीतर ही एक और सरगना ने उसके ख़िलाफ़ विद्रोह किया और उसे काबुल से भागना पड़ा । जल्द ही उसने काबुल पर पुनः अपना नियंत्रण स्थापित कर लिया । इधर सन् १५१० में फ़ारस के शाह इस्माईल प्रथम, जो सफ़ीवी वंश का शासक था, ने मुहम्मद शायबानी को हराकर उसकी हत्या कर डाली । इस स्थिति को देखकर बाबर ने हेरात पर पुनः नियंत्रण स्थापित किया । इसके बाद उसने शाह इस्माईल प्रथम के साथ मध्य एशिया पर मिलकर अधिपत्य जमाने के लिए एक समझौता किया । शाह इस्माईल की मदद के बदले में उमने साफ़वियों की श्रेष्ठता स्वीकार की तथा खुद एवम् अपने अनुयायियों को साफ़वियों की प्रभुता के अधीन समझा । इसके उत्तर में शाह इस्माईल ने बाबर को उसकी बहन ख़ानज़दा से मिलाया जिसे शायबानी, जिसे शाह इस्माईल ने हाल ही में हरा कर मार डाला था, ने कैद में रख़ा हुआ था और उससे विवाह करने की बलात् कोशिश कर रहा था । शाह ने बाबर को ऐश-ओ-आराम तथा सैन्य हितों के लिये पूरी सहायता दी जिसका ज़बाब बाबर ने अपने को शिया परम्परा में ढाल कर दिया । उसने शिया मुसलमानों के अनुरूप वस्त्र पहनना आरंभ किया । शाह इस्माईल के शासन काल में फ़ारस शिया मुसलमानों का गढ़ बन गया और वो अपने आप को सातवें शिया इमाम मूसा अल क़ाज़िम का वंशज मानता था । वहां सिक्के शाह के नाम में ढलते थे तथा मस्ज़िद में खुतबे शाह के नाम से पढ़े जाते थे हंलांकि क़ाबुल में सिक्के और खुतबे बाबर के नाम से ही थे । बाबर समरकंद का शासन शाह इस्माईल के सहयोगी की हैसियत से चलाता था ।
शाह की मदद से बाबर ने बुखारा पर चढ़ाई की । वहां पर बाबर, एक तैमूरवंशी होने के कारण, लोगों की नजर में उज़्बेकों से मुक्तिदाता के रूप में देखा गया और गांव के गांव उसको बधाई देने के लिए खाली हो गए । इसके बाद फारस के शाह की मदद को अनावश्यक समझकर उसने शाह की सहायता लेनी बंद कर दी । अक्टूबर १५११ में उसने समरकंद पर चढ़ाई की और एक बार फिर उसे अपने अधीन कर लिया । वहां भी उसका स्वागत हुआ और एक बार फिर गांव के गांव उसको बधाई देने के लिए खाली हो गए । वहां सुन्नी मुलसमानों के बीच वह शिया वस्त्रों में एकदम अलग लग रहा था । हंलांकि उसका शिया हुलिया सिर्फ शाह इस्माईल के प्रति साम्यता को दर्शाने के लिए थी, उसने अपना शिया स्वरूप बनाए रखा । यद्यपि उसने फारस के शाह को खुश करने हेतु सुन्नियों का नरसंहार नहीं किया पर उसने शिया के प्रति आस्था भी नहीं छोड़ी जिसके कारण जनता में उसके प्रति भारी अनास्था की भावना फैल गई । इसके फलस्वरूप, ८ महीनों के बाद, उज्बेकों ने समरकंद पर फिर से अधिकार कर लिया ।
 उत्तर भारत पर चढ़ाई
दिल्ली सल्तनत पर ख़िलज़ी राजवंश के पतन के बाद अराजकता की स्थिति बनी हुई थी । तैमूरलंग के आक्रमण के बाद सैय्यदों ने स्थिति का फ़ायदा उठाकर दिल्ली की सत्ता पर अधिपत्य कायम कर लिया । तैमुर लंग के द्वारा पंजाब का शासक बनाए जाने के बाद खिज्र खान ने इस वंश की स्थापना की थी । बाद में लोदी राजवंश के अफ़ग़ानों ने सैय्यदों को हरा कर सत्ता हथिया ली थी ।
 

इब्राहिम लोदी
बाबर को लगता था कि दिल्ली सल्तनत पर फिर से तैमूरवंशियों का शासन होना चाहिए । एक तैमूरवंशी होने के कारण वो दिल्ली सल्तनत पर कब्जा करना चाहता था । उसने सुल्तान इब्राहिम लोदी को अपनी इच्छा से अवगत कराया  । इब्राहिम लोदी के जबाब नहीं आने पर उसने छोटे-छोटे आक्रमण करने आरंभ कर दिये । सबसे पहले उसने कंधार पर कब्जा किया । इधर शाह इस्माईल को तुर्कों के हाथों भारी हार का सामना करना पड़ा । इस युद्ध के बार शाह इस्माईल तथा बाबर, दोनों ने बारूदी हथियारों की सैन्य महत्ता समझते हुए इसका उपयोग अपनी सेना में आरंभ किया । इसके बाद उसने इब्राहिम लोदी पर आक्रमण किया । पानीपत में लड़ी गई इस लड़ाई को पानीपत का प्रथम युद्ध के नाम से जानते हैं । इसमें बाबर की सेना इब्राहिम लोदी की सेना के सामने बहुत छोटी थी । पर सेमा में संगठन के अभाव में इब्राहिम लोदी यह युद्ध बाबर से हार गया । इसके बाद दिल्ली की सत्ता पर बाबर का अधिकार हो गया और उसने सन १५२६ में मुगलवंश की नींव डाली ।
राजपूत
राणा सांगा के नेतृत्व में राजपूत काफी संगठित तथा शक्तिशाली हो चुके थे । राजपूतों ने एक बड़ा सा क्षेत्र स्वतंत्र कर लिया था और वे दिल्ली की सत्ता पर काबिज होना चाहते थे । इब्राहिम लोदी से लड़ते लड़ते बाबर की सेना को बहुत क्षति पहुंची थी । बाबर की सेना राजपूतों की आधी भी नहीं थी । मार्च १५२७ में खानवा की लड़ाई राजपूतों तथा बाबर की सेना के बीच लड़ी गई । राजपूतों का जीतना निश्चित लग रहा था । पर युद्ध के दौरान तोमरों ने राणा सांगा का साथ छोड़ दिया और बाबर से जा मिले । इसके बाद राणा सांगा को भागना पड़ा और एक आसान सी लग रही जीत उसके हाथों से निकल गई । इसके एक साल के बाद किसी मंत्री द्वारा जहर खिलाने कारण राणा सांगा की मौत हो गई और बाबर का सबसे बड़ा डर उसके माथे से टल गया । इसके बाद बाबर दिल्ली की गद्दी का अविवादित अधिकारी बन गया । आने वाले दिनों में मुगल वंश ने भारत की सत्ता पर ३०० सालों तक राज किया ।

बाबर के द्वारा मुगलवंश की नींव रखने के बाद मुगलों ने भारत की संस्कृति पर अपना अमिट छाप छोड़ी ।
अन्तिम के दिन
कहा जाता है कि अपने पुत्र हुमायुं के बीमार पड़ने पर उसने अल्लाह से हुमायुं को स्वस्थ्य करने तथा उसकी बीमारी खुद को दिये जाने की प्रार्थना की थी । इसके बाद बाबर का स्वास्थ्य बिगड़ गया और अंततः वो १५३० में ४८ वर्ष की उम्र में मर गया । उसकी ईच्छा थी कि उसे काबुल में दफ़नाया जाए पर पहले उसे आगरा में दफ़नाया गया । लगभग नौ वर्षों के बाद शेरशाह सूरी ने उसकी इच्छा पूरी की और उसे काबुल में दफ़ना दिया ।
 
हुमायूँ
हुमायूँ एक मुगल शासक था । प्रथम मुग़ल सम्राट बाबर के पुत्र नसीरुद्दीन हुमायुं (6 मार्च 1508 – 22 फरवरी, 1556) थे। यद्यपि उन के पास साम्राज्य बहुत साल तक नही रहा, पर मुग़ल साम्राज्य की नींव में हुमायुं का योगदान है।
बाबर की मृत्यु के पश्चात हुमायूँ ने १५३० में भारत की राजगद्दी संभाली और उनके सौतेले भाई कामरान मिर्ज़ा ने काबुल और लाहौर का शासन ले लिया। बाबर ने मरने से पहले ही इस तरह से राज्य को बाँटा ताकि आगे चल कर दोनों भाइयों में लड़ाई न हो। कामरान आगे जाकर हुमायूँ के कड़े प्रतिद्वंदी बने। हुमायूँ का शासन अफ़गानिस्तान, पाकिस्तान और उत्तर भारत के हिस्सों पर 1530-1540, और फिर 1555-1556 तक रहा।
भारत में उन्होने शेरशाह सूरी से हार पायी। 10 साल बाद, ईरान साम्राज्य की मदद से वे अपना शासन दोबारा पा सके। इस के साथ ही, मुग़ल दरबार की संस्कृति भी मध्य एशियन से इरानी होती चली गयी।
हुमायुं के बेटे का नाम जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर था।
 

 

अकबर
जन्म
बाबर की मृत्यु के दस साल के भीतर ही (सन्‌ १५३०) उनके पुत्र हुमायूँ के हाथ से गद्दी निकल गई । वह जान बचाने के लिये इधर-उधर मारा मारा फिर रहा था। इसी बीच सन्‌ १५४१ में हमीदा बानो से हुमायूँ की शादी हुई और सन्‌ १५४२ में अकबर का जन्म हुआ। अकबर के माँ-बाप अपनी जान बचाने इरान भाग गये और अकबर अपने पिता के छोटे भाइयों के संरक्षण में रहा। पहले वह कुछ दिनों कंदहार में रहा और १५४५ से काबुल में। हुमायूँ की अपने छोटे भाइयों से बराबर ठनी ही रही इसलिये चाचा लोगों के यहाँ अकबर कि स्थिति बंदी से कुछ ही अच्छी थी। यद्यपि सभी उसके साथ अच्छा व्यवहार करते थे और शायद दुलार प्यार कुछ ज्यादा ही होता था।
 

आरंभिक काल

सन्‌ १५४५ में जब हुमायूँ ने फिर से काबुल पर अधिकार कर लिया तो अकबर अपने पिता के संरक्षण में पहुंचा। लेकिन १५४५-१५४६ की छोटी-सी अवधि में अकबर के चाचा कमरान ने काबुल पर पुनः अधिकार कर लिया था। मगर अकबर अपने माता-पिता के संरक्षण में ही रहा। उन्होंने अपने पुत्र को अच्छी से अच्छी शिक्षा देने की चेष्टा की किंतु उससे विमुख ही रहा, परंपरागत पढ़ाई में उसकी बिलकुल रूची नहीं थी। परवर्ती काल में अकबर ने अपने आप को निरक्षर बताया है किंतु इस आत्मस्वीकृति में सत्यांश बस इतना है कि उसने स्वयं कभी कुछ नहीं लिखा । अपने परवर्ती जीवन में अकबर को पुस्तकों से बड़ा मोह हो गया और वह दूसरों से पढ़वाकर उन्हें सुना करता था।
अपने खोये हुए राज्य को पुनः प्राप्त करने के लिये हुमायूँ के अनवरत प्रयत्न अंततः सफल हुये और वह सन्‌ १५५५ में हिंदुस्तान पहुंच सका किंतु सन्‌ १५५६ में राजधानी दिल्ली में उसकी मृत्यु हो गई। गुरदासपुर के कलनौर नामक स्थान पर जब अकबर की ताजपोशी हुई उस समय उसकी उम्र मात्र चौदह वर्ष थी। उस समय मुगल राज्य केवल काबुल से दिल्ली तक ही फैला हुआ था। और हेमु के नेतृत्व में अफगान सेना पुनः संगठित होकर उसके सम्मुख चुनौती बनकर खड़ी थी।
 

शासन

राज्य की सुरक्षा का दायित्व बालक अकबर के संरक्षक बैरम खां के कंधों पर था। प्रारंभ के चार वर्षों तक बैरम खां ने ही शासन संभाला। किंतु सन्‌ १५६० में अकबर ने स्वयं सत्ता संभाल ली और बैरम खां को निकाल बाहर किया। अब अकबर के स्वयं के हाथों में सत्ता थी – यद्यपि इस तथ्य को समझने में कुछेक लोगों को काफी समय लगा। उस समय अनेक गंभीर कठनाइयाँ आईं जैसे – शम्सुद्दीन अतका खां की हत्या पर उभरा जन आक्रोश (१५६३), उज़बेक विद्रोह (१५६४-६५) और मिर्ज़ा भाइयों का विद्रोह (१५६६-६७) किंतु अकबर ने बड़ी कुशलता से इन समस्याओं को हल कर लिया। अपनी कल्पनाशीलता से उसने अपने सामंतों की संख्या बढ़ाई। सन्‌ १५६२ में आमेर के शासक से उसने समझौता किया – इस प्रकार राजपूत राजा भी उसकी ओर हो गये। इसी प्रकार उसने इरान से आने वालों को भी बड़ी सहयाता दी। भारतीय मुसलमानों को भी उसने अपने कुशल व्यवहार से अपनी ओर कर लिया। धार्मिक सहिष्णुता का उसने अनोखा परिचय दिया – हिंदु तीर्थ स्थानों पर लगा कर हटा लिया गया (सन्‌ १५६३)। इससे पूरे राज्यवासियों को अनुभव हो गया कि वह एक परिवर्तित नीति अपनाने में सक्षम है।
 
 

जहांगीर

जहांगीर मुगल सम्राट था और वह अकबर के पुत्र थे। इनका बचपन का नाम सलीम था।
 
 

शाहजहां

शाहजहां मुगल सम्राट। शाहजहाँ अपनी न्यायप्रियता और वैभवविलास के कारण अपने काल में बड़े लोकप्रिय रहे। किन्तु इतिहास में उनका नाम केवल इस कारण नहीं लिया जाता। शाहजहाँ का नाम एक ऐसे आशिक के तौर पर लिया जाता है जिसने अपनी बेग़म मुमताज़ महल के लिये विश्व की सबसे ख़ूबसूरत इमारत ताज महल बनाने का यत्न किया।
 
 औरंगजेब
 
बहादुरशाह ज़फ़र
अबू ज़फ़र सिराजुद्दीन मुहम्मद बहादुरशाह ज़फ़र (उर्दू: ابو ظفر سِراجُ الْدین محمد بُہادر شاہ ظفر) या बहादुरशाह द्वितीय, जिसका ज़फ़र उपनाम था, भारत में मुगलों का अंतिम सम्राट था। उसका जन्म 24 अक्तूबर 1775 में हुआ था और वह अकबर शाह द्वितीय का हिंदू पत्नी लालबाई से उत्पन्न पुत्र था। वह 28 सितंबर 1838 को अपने पिता की मृत्यु के बाद सिंहासन पर बैठा।

Diference between INDIAN NAVY AND MERCHAND NAVY

  1. Indian Navy is a part of Government Defense & Merchant Navy is a part of private sector, means when u will qualify any written exam, interview according to requirment of navy so u will be select in Navy.
  2. Merchant Navy is as like a private company, when u will do any certification & meet any consultancy so he can place u in merchant navy.

  3. Indian Navy : 
                       Navy comes under the Ministry of Defense. They main duty is to protect the Sea route ( with in the Indian Jurisdiction) from the Enemy. for more details please click the link  http://indiannavy.nic.in/

    Merchant Navy: 
                          The duties of a merchant navy officer are centered around three areas- the deck, the engine room and the service department. The captain, second officer, chief officer, third officer and several other officers constitute the deck officers. The engine room comprises engineers and the electrical officer while the service department focuses on the operations in the kitchen and other services. The option of traveling to far-flung places of interest and an adventurous journey on a ship makes a career in Merchant Navy lucrative notwithstanding the pain of staying away from one's family for long and the stress of the job. Interestingly enough, the recent past has witnessed entry of several women in the roles of radio officers as well as doctors in this field. You can pursue a career in this field by opting for the Merchant Navy Courses in India.

Position of women in Ancient India (2500 B.C. - 1500 B.C.X & 1500 B.C. - A.D. 1800)

Everyday life in Ancient India


The achievements of the Aryans in the realms of philosophy and metaphysics have been the subject matter of research by very many scholars and valuable light has been shed on these as a result of their labours. But as regards the social and economic conditions in which they lived there is not much authentic information and whatever is known had to be gleaned from such books as Mahabharata and Kautilya's Arthasastra. The latter book gives us valuable information about the political, social, economic and military organization of Mauryas. The Jataka tales a collection of tales belonging to the pre-Buddhist period give us a revealing glimpse into a period when the fusion between the Aryan and the Dravidian races had been almost completed. It gives us the periods of rule and genealogies of dynasties of kings. Originally the institution of kingship was elective but in the course of time the office became hereditary. The chief source of revenue for the government was from land. The political and economic structure was built up from the village communities. India was famous for her textile goods. There was a thriving metallurgical industry making implements of war.

Trade guilds controlled different trades. The merchant -guilds or associations were so powerful that the king himself could not take away any of their privileges. Another peculiar feature was that those who belonged to particular craft say carpentry were all concentrated in a single village. There was a flourishing trade not only within the country but also with other countries of the world. In the treatment of iron India had made remarkable progress even in ancient times. The iron pillar in Delhi stated to have been erected in the fourth to seventh century AD is a standing monument to this superior knowledge of metallurgy. The pillar has successfully withstood the ravages of time all these years. Panini the great grammarian wrote his learned grammar of Sanskrit in the 7th century BC. Panini's book is one of the splendid productions of the human mind. The ancient Indians were well versed in astronomy, medicine and surgery. They were mindful of the animals and had hospitals for them. In the field of mathematics their contribution was outstanding. They invented the zero and decimal place-value system. They could divide time into the minutest part. The ancient Indians had vast conception of time and space. There were centres of higher learning corresponding to the modern universities in places like Taxila. It is stated that the eminent grammarian Panini studied in that university. The position of women was honourable at home and in society.

The Arts in Ancient India


Indian art is very intimately associated with Indian religion and philosophy. There is always an irresistible urge to find an expression for spiritual longings. Beauty to Indian artist was something subjective. E.B Havell an eminent critic art is all praise for the ideals of Indian art and the underlying spirit behind it. He says that great art brings out national character and thought in a revealing manner and such art can only be appreciated if the ideals animating it are sympathetically understood. Indian art was not meant to cater to the aesthetic taste of a small elitist society. It was meant to propagate religious ideals and reach as large as audience as possible who for the most past were not literate. The masses of India though not considered to be well educated have reacted through the ages in the most enthusiastic manner to art and revealed their essential culture. Practically the entire remnants of art of ancient India which have survived the ravages of time are of a religious nature or with some religious motif. Secular art also existed as for example in the wall paintings and sculptures in the palaces of kings proclaiming the transitoriness of human splendour. There are also few critics who hold the view that Indian art did not emphasize spiritual and religious ideas to the exclusion of everything else but also was an expression of the vitality of life of the people and their sense of pure joy in life. In Indian art the temple towers though tall are firmly based on earth. The figures represented are beautiful and a smile on the face is quite common. It is also worthy of note that female forms are depicted with decorative often voluptuous motif and often are made to appear strikingly beautiful. While religious literature in ancient India was the work of learned Brahmans and ascetics religious art was the work of expert craftsmen who were secular in their outlook and who enjoyed thoroughly their life without any thought of asceticism. It is their view of life that is prominently depicted in art and literature.

IIIT Hyderabad MSIT Admissions-2010 | JNTU-H, OU, AU, SVU

IIIT- International Institute of Information Technology, Hyderabad announced notification for admission to its prestigious MSIT (Master of Science in Information Technology) Program for the year 2010-11. This course is jointly conducted by IIIT Hyderabad, JNTU Hyderabad, Osmania UNiversity, Andhra University and Sri Venkateswara University. IIIT Hyderabad has been placing all MSIT students comfortably in reputed MNCs. The duration of the course is 2 years.

Last date for submission of applications: 17/05/2010

Eligibility:
* B.E./ B.Tech (All branches)
* PG (M.Sc.) in Computer Science / Mathematics / Statistics
* MCA

Selection Method:
IIIT-H shall conduct entrance test onbehalf of all other institutes for selecting candidates to MSIT Program. Candidates shall take Entrance Test on any Thursday, Friday, Saturday and Sunday from 12/04/2010 to 25/05/2010.

Application Process:
Candidates shall apply online through MSIT website.

Address to send applications / contact info:
Dean, Consortium of Institutions of Higher Learning, IIIT Campus, Gachibowli, Hyderabad- 500032.
Phone No: 040-23001970, 040-65881971.

Important dates:
Start of application process: 12/04/2010
Last date for applications: 17/05/2010
Entrance Test: 26/05/2010

More details and online application link available at www.msitprogram.net

Loading...